You are currently viewing Harnaam Kaur in Hindi| Harnaam Kaur Bearded Lady in Hindi

Harnaam Kaur in Hindi| Harnaam Kaur Bearded Lady in Hindi

  • Post author:
  • Post category:Viral
  • Reading time:6 mins read

हरनाम कौर दाढ़ी वाली महिला 

हरनाम कौर एक ऐसी बीमारी से पीड़ित हैं जिसके कारण उनके चेहरे पर दाढ़ी उग गई है। चेहरे पर दाढ़ी होने की वजह से उनकी जिंदगी में काफी दिक्कतें आती हैं।

हरनाम कौर को पीसीओएस का पता तब चला जब वह बारह साल की थी (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम)।

पीसीओएस एक ऐसी स्थिति है जो हार्मोन के स्तर को प्रभावित करती है। इस स्थिति में महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म होता है, उनके चेहरे पर बाल उग आते हैं और उन्हें गर्भवती होने में कठिनाई होती है।

Harnaam Kaur

हरनाम कौर अब 31 साल की हो गई हैं। उन्होंने अपने जीवन में किन चुनौतियों का सामना किया है?

दाढ़ी की वजह से उन्हें किस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा? यह सब उन्होंने 'मिरर' से बातचीत में खुलासा किया।

हरनाम कौर का दावा है कि उसकी सगाई हो चुकी थी और लड़के ने पहले तो उसकी उपस्थिति पर कोई टिप्पणी नहीं की।

हालांकि, बाद में उन्होंने कई शर्तें लगानी शुरू कर दीं। लड़के ने तब कहा कि अगर वह कुंवारी नहीं हुई, तो वह उससे शादी नहीं करेगा; परिणामस्वरूप, हरनाम ने लड़के को इसपर जवाब देते हुए उसके साथ शादी नहीं करने का फैसला किया।

हरनाम कौर ने कहा वह अभी 31 वर्ष की हैं और उनके चेहरे पर सामान्य पुरुषों की तरह दाढ़ी उगे हुए हैं। मैं अक्सर सोचती हूँ कि यह यहाँ कैसे उग आई।

उनका जन्म लंदन में हुआ था और वर्त्तमान में पिता और एक छोटा भाई के साथ रहती है। उन्होंने कहा कि उनके माता-पिता ने उनकी परवरिश में कोई कसर नहीं छोड़ी।

माता-पिता अपने बच्चों की परवरिश को लेकर बहुत चिंतित थे।

स्कूल में मेरा मजाक उड़ाया गया।

हरनाम कहते हैं, 'मैं जब भी घर से बाहर होती थी, तो दुनिया मेरे लिए नर्क के सामान हो जाती थी। 

जब मैं नर्सरी स्कूल में थी तब से मेरे सहपाठी मेरा मज़ाक उड़ाते थे क्योंकि मैं एक सिख लड़की थी और मेरी एक चोटी होती थी।

किशोरावस्था में पहुंचते-पहुंचते मेरा वजन बढ़ गया था। जब मैं 11 साल की थी तब से गर्दन के नीचे बाल उगने लगे थे।

'12 साल की उम्र में, मेरी माँ मुझे डॉक्टर के पास ले गईं, और यह पता चला कि मुझे एक बीमारी पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) है,' हरनाम ने आगे कहा)।

मेरे चेहरे पर दाढ़ी होने के कारण मेरी मां मुझे सैलून में ले गई ताकि मेरा चेहरा वैक्स कराया जा सके।

यह सिलसिला चार साल तक चलता रहा। मेरी माँ का मानना था कि चेहरे के बाल हटाने (ब्लीच करने) से मेरे स्कूल में छात्र मज़ाक नहीं उड़ाएँगे।

मैंने अपनी माँ के अनुरोध पर ऐसा किया, लेकिन स्कूल में लोगों की मजाक उड़ाने की बदमाशी जारी रही।

हरनाम याद करती हैं, "जब मैं वैक्स करवाकर स्कूल गयी, तो एक लड़के ने मेरा मज़ाक उड़ाया और कहा कि ऐसा लग रहा है जैसे किसी ने उस्तरा से अपना चेहरा मुंडवा लिया हो।" 

हर वैक्स के बाद मेरे चेहरे के बाल निरंतर घने होने लग गए।

कुछ समय बाद, मैंने वैक्सिंग करना बंद कर दिया।

मैंने अपनी मां से कहा कि अब मुझे मेरी वैक्सिंग नहीं करवानी है। माँ ने स्वीकार किया कि यह मेरा निर्णय था और इसका सम्मान किया।

मैं गर्मियों में 6 सप्ताह के लिए छुट्टी पर थी, जिसके बाद उसके पूरे चेहरे पर दाढ़ी थी।

harnaam_kaur_official

पिछले 15 वर्षों में, 15 आत्महत्या के प्रयास किये।

हरनाम ने यह भी खुलासा किया कि जब उनकी उम्र 15 थी, तब उसने आत्महत्या का प्रयास किया था। 

स्कूल के लोग उसे हर समय चिढ़ाते थे। ग्रेजुएशन के बाद नौकरी मिलना बेहद मुश्किल था।

डाक सेवा से जुड़ने से पहले उन्होंने कुछ समय के लिए एजेंसी के लिए काम किया। हरनाम ने 21 साल बाद शादी तय हुई।

उसका भावी पति शुरू में शांत रहा। लेकिन फिर उन्होंने 'क्या कर सकती है' और 'क्या नहीं' तय करना शुरू कर दिया।

उसने यह भी कहा कि अगर वह कुंवारी नहीं हुई, तो वह उसे फिर कभी नहीं छूएगा। फिर हरनाम ने शादी खत्म करते हुए लड़के को जवाब दिया।

उस वक्त उनकी शादी में महज दो महीने ही बचे थे। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

हरनाम कौर की बिना दाढ़ी वाली फोटो (Harnaam Kaur without Beard)

harnaam_kaur_without beard

टेड टॉक 2018

हरनाम ने 2018 में एक टेड टॉक (विश्वप्रसिद्ध ऑनलाइन टॉक शो) में अपनी प्रस्तुति दी थी, लेकिन अब वह पहले पूरी तरह से धार्मिक हो गई थी। 

उन्होंने वर्ष 2016 में लंदन फैशन वीक में भाग लिया था। वे आकस्मिक डेट्स पर भी गयीं; वह खुद को पैनसेक्सुअल बताती है।

पैनसेक्सुअल वे लोग होते हैं जो पुरुषों और महिलाओं दोनों के प्रति आकर्षित होते हैं।

हरनाम ने यह भी कहा कि एक दिन एक महिला ने उसका हाथ देखा और उससे कहा कि वह ब्रिटेन में अपने प्रेमी को नहीं ढूंढ पाएगी क्योंकि लोग बहुत संकीर्ण सोच वाले हैं।